दृष्टि चक्र डॉ. कन्हैया झा के साथ (बजट में क्या है खास)

भारत सरकार किसानों की आय को दोगुना करने के लिए 3 नए कानूनों को लेकर आई है | प्रस्तावित बजट में भी आम किसान तथा गरीबों को लाभ मिले इसके लिए अनेक प्रकार की घोषणाएं की गई है | वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा प्रस्तुत किया गया बजट आत्मनिर्भर भारत बनाने की दिशा में मील का पत्थर साबित होगा |
आज देश को कोरोना के कारण जो नुकसान हुआ है उससे बाहर निकालने की आवश्यकता है | सरकार और समाज दोनों अपने-अपने स्तर पर नई दिशा की तलाश में प्रयत्नशील हैं | इस महामारी से जनता जल्दी से जल्दी बाहर आये इसके लिए सभी ओर से प्रयास हो रहे हैं |
भारत सरकार द्वारा प्रस्तुत किया गया बजट न केवल वर्तमान समय में अर्थव्यवस्था को बल देगा अपितु दीर्घ कालखंड में भारत की ढांचागत निर्माण में भी वृद्धि करेगा |
कोरोना महामारी के दौरान सरकार ने जो निर्णय लिए उससे समाज को बहुत लाभ प्राप्त हुआ | जब पूरा देश अपने-अपने घरों में बंद था तब सभी को भोजन सुनिश्चित कराने के लिए सरकार द्वारा लगभग 80 करोड़ लोगों को मुफ्त में अनाज दिया गया | गरीब परिवारों को धुंएँ से मुक्ति दिलाने के लिए उज्जवला योजना के तहत 8 करोड़ लाभार्थियों को मुफ्त में गैस कनेक्शन उपलब्ध कराये गए | देश के सबसे गरीब तबके पास नकद राशि पहुंचे इसके लिए सरकार द्वारा गरीब कल्याण योजना के तहत 76 हजार करोड़ रुपये की धनराशी वितरित की गई | यह सब बातें दिखाती है कि सरकार जब संवेदनशील होती है तो आने वाले बड़े से बड़े संकट को किस प्रकार से मुकाबला कर सकती है |
जिन गरीबों के पास अपना पक्का घर नहीं था उनके लिए प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत उन्हें घर बनाने के लिए धनराशी उपलब्ध कराई गई | गाँव का किसान अपनी छोटी-छोटी आवश्यकताओं के लिए शहर तक नहीं जा पाता था, अपने खेत में हुए फसल को तथा आवश्यकताओं की पूर्ति में उसको बहुत सी परेशानियों का सामना करना पड़ता था | सरकार ने घर घर बिजली पहुंचाकर लोगों के जीवन शैली में बदलाव किये | नए-नए उद्योगों का विकास हुआ | गांवों में छोटे-छोटे उद्योग जन्म ले रहे हैं | बिजली तथा इन्टरनेट के पहुँचने से ऑनलाइन व्यवसाय में भी वृद्धि दर्ज की गई है | अब दूरदराज का व्यक्ति भी अपने उत्पाद को ऑनलाइन बेच सकता है | प्रधानमंत्री फसल बीमा के माध्यम से 9 करोड़ लोगों को लाभ पहुंचा है जबकि प्रधानमंत्री किसान योजना के माध्यम से 11 करोड़ किसानों को लाभ प्राप्त हुआ है |
इस बार के बजट की सबसे बड़ी खासियत रही कि सरकार द्वारा पूंजीगत खर्चे में साढ़े चौतीस प्रतिशत की वृद्धि की गई | देश की सुरक्षा सरकार की पहली प्राथमिकता है, इसके लिए सरकार आंतरिक एवं बाह्य सुरक्षा को लेकर बहुत ही संजीदगी के साथ कार्य कर रही है | रक्षा के क्षेत्र में सरकार द्वारा खर्चे में भी वृद्धि की गई है | इस बार के बजट में रक्षा खर्च में 18.8 प्रतिशत की वृद्धि की गई है | गाँवों में मजदूरों के लिए सरकार की बड़ी योजना मनरेगा में सरकार द्वारा 1 लाख 11 हजार 500 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है | अर्थात गरीब से गरीब जनता का ख्याल रखा गया है |
कोरोना महामारी से देश को बचाने के लिए पहला टीकाकरण अभियान की दूसरी खुराक आज से लगाई जाएगी | अभी तक 75 लाख से अधिक लोगों को कोरोना का टीका लगाया जा चुका है | भारत ने तेज गति से विश्व में सबसे अधिक 75 लाख लोगों को कोरोना का टीका लगाया है | यह अपने आपन में वैश्विक रिकॉर्ड है |
आज विश्व दलहन दिवस है | भारत दुनिया में सबसे अधिक दलहन का उत्पादक तथा उपभोक्ता है | पिछले कुछ वर्षों में भारत ने दलहन उत्पादन को 140 टन से बढाकर 240 लाख टन तक बढ़ाया है | 2019-20 में भारत का 23.15 मिलियन टन दलहन का उत्पादन हुआ था, यह विश्व का 23.62% प्रतिशत है | भारत एक शाकाहारी देश है, यहाँ दलहन का उत्पादन प्रोटीन की पूर्ति का मुख्य स्रोत है | दलहन शाकाहारी लोगों का मुख्य भोजन है | दलहन में पानी की कम खपत होती है | सूखे क्षेत्रों में आसानी से इसका उत्पादन किया जा सकता है |
भारत में छोटे तथा सीमांत किसान की संख्या 86 प्रतिशत है | FPO के द्वारा इन किसानों के कल्याण के लिए सरकार की योजना काम कर रही है | सरकार छोटे उत्पादक किसानों को संगठित करके उन्हें कंपनी एक्ट में लाने की योजना कर रही है | इस कंपनी एक्ट में आने के लिए कम से कम 11 सदस्यों का होना आवश्यक है | भारत सरकार द्वारा 10 हजार नए FPO गठित करने का फैसला लिया है | FPO की शुरुआत कृषि स्थिति को सुधारने के लिए किया गया है |
भारत सरकार की राष्ट्रीय पोषण अभियान के तहत दलहन आंगनबाड़ी के माध्यम से वितरित किये जा रहा है | गर्भवती एवं नवप्रसूता के लिए सरकार द्वारा सवा करोड़ केन्द्रों की स्थापना की गई है | कोविड महामारी के दौरान सरकार द्वारा 80 करोड़ लोगों को साबुत दालों की आपूर्ति की गई है | कोविड के होने के बावजूद भारत ने रिकॉर्ड स्तर पर दलहन का निर्यात किया | पिछले वर्ष अप्रैल से दिसंबर 2020 के दौरान दलहनों में 26% की वृद्धि दर्ज की गई है |
x

0 टिप्पणियाँ:

ChatBox

Share