परमसुख की प्राप्ति....कपिलधारा में

व्यर्थ चिंतित हो रहे हो, व्यर्थ दर-दर रो रहे हो 
अजन्म है अमरात्मा, भय में जीवन खो रहे हो




0 टिप्पणियाँ:

ChatBox

Share